You are currently viewing जोधपुर में ठंड ने कई सालों का रिकॉर्ड तोड़ा है

जोधपुर में ठंड ने कई सालों का रिकॉर्ड तोड़ा है

  • Post author:
  • Post category:Save
  • Post comments:0 Comments

जोधपुर में ठंड ने कई सालों का रिकॉर्ड तोड़ा है। ठंड के बढ़ने के और भी आसार हैं। ऐसे में कई ऐसे गरीब हैं जिनके पास गर्म कपड़े नहीं है। यह लोग कड़कड़ाती ठंड में किसी तरह अपना जीवन बिता रहे हैं। इन लोगों की तकलीफों को देखकर अल फलाह एजुकेशनल एंड वेलफेयर सोसायटी की ओर से जरूरतमंद लोगों के लिए वस्त्र दान अभियान चलाया जा रहा है। आप सभी जोधपुर शहर वासियों से अनुरोध है की अगर आपके पास ऐसे कपड़े हैं। जिन्हें आप यूज़ नहीं कर रहे हैं ऐसे कपड़ों को आप सोसाइटी ऑफिस में जमा करवा दें ताकि उन कपड़ों को जरूरतमंदों तक पहुंचाया जा सके आपके इस छोटे से प्रयास से किसी को मिल सकती है बड़ी राहत

सोसाइटी की सर्वे टीम द्वारा मुकम्मल तहकीक़ व तफ्तीश कर 400 के क़रीब ऐसे गैरतमंद यतीमो बेवाओं व बेसहारा परिवारों की फेहरिस्त (सूची) तैयार की गई है जो दो वक्त के खाने में भी आपके तआवुन (मदद) के मोहताज है लेकिन शर्म कि वजह से किसी के सामने हाथ नहीं फैलाते हैं। जिनमें से 50 परिवारों को आपकी मदद से हर महीने सोसायटी द्वारा मुफ्त राशन पैकेज पहुंचाए जा रहे हैं हम आपसे अपील करते हैं कि आप हमारी मदद करें ताकि दूसरे गैरतमंद जरुरतमंद परिवारों तक भी राशन सामान पहुंचाया जा सके शुक्रिया

कोरोना काल में जब हर कोई शख़्स संक्रमण से बचने के लिए हर मुमकिन प्रयास मैं लगा हुआ था तो उस वक्त सोसायटी के वर्कर टीम ने अपना फर्ज निभाया और 400 से अधिक शवों के अंतिम संस्कार (तदफीन) का कार्य किया ।

सोसाइटी के अनुभवी कार्यकर्ताओं की टीम द्वारा सर्वे कर हर साल रमजान में गरीब मुस्तहिक़ रोजेदार परिवारों में 200 से अधिक रमज़ान राशन किट तक्सीम किए जाते हैं आपसे निवेदन है कि आप हमारा सपोर्ट करें ताकि इस साल 500 से अधिक घरों तक रमजान राशन सामान पहुंचाया जा सके।

सोसायटी के तीन एंबुलेंस गाड़ियां है जो पिछले कई सालों से गरीब व असहाय मरीजों को लाने व ले जाने और जोधपुर शहर में सर्व समाज शवों को जोधपुर शहर के किसी भी हॉस्पिटल से घर तक पहुंचाने का कार्य कर रही है जिसका सालाना खर्च 10 लाख के करीब है आपसे निवेदन है कि आप हमारा सपोर्ट करें

Leave a Reply